पति-पत्नी आर्ट-गैलरी देखने गए। एक तस्वीर में एक लड़की थी, जिसने अपने जिस्म को पत्तों से ढंका हुआ था।
.
.
.
पति उस तस्वीर को बड़े गौर से देख रहा था…!
.
.
तभी पीछे से पत्नी ने आकर कहा – “अब चलोगे या यहीं बैठ कर आंधी आने का इंतज़ार करोगे"...?

--------------

एक आदमी - क्यों बेटे, तुम किस खानदान से हो ?
लड़का - जी, जानवरों के खानदान से।
आदमी - मतलब ?
लड़का - जी मेरे पिता जी मुझे गधा कहते हैं, मम्मी कुत्ता कहती है, बहन मुझे बन्दर कहकर चिढ़ाती है, टीचर मुझे सूअर कहते हैं और मेरे दादा जी कहते हैं - वाह मेरे बब्बर शेर।

Post a comment

दोस्तों यदि आपको ये लेख पसंद आया तो आप भी हमारा Email Subscription लें और chirkut papu के लेख अपनी इमेल पर प्राप्त करें

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.